एप्पल ने विपक्षी नेताओं को चेताया- फोन ‘स्टेट स्पॉन्सर्ड’ हमलावरों के निशाने पर!

रणघोष अपडेट. देशभर से 

विपक्षी दलों के बड़े नेताओं और पत्रकारों के फोन निशाने पर हैं। कई विपक्षी नेताओं और पत्रकारों को एप्पल ने आगाह किया है कि उनके फोन ‘स्टेट स्पॉन्सर्ड अटैकर्स’ यानी सरकार प्रायोजित हमलावरों के निशाने पर हैं। महुआ मोइत्रा, शशि थरूर, प्रियंका चतुर्वेदी, अखिलेश यादव सहित कम से कम दस ऐसे लोगों ने इसकी शिकायत की है। शशि थरूर ने तो दावा किया है कि उन्होंने इसको सत्यापित कराया है और इसकी प्रमाणिकता की पुष्टि हुई है। थरूर ने इसको लेकर ट्वीट किया है। उन्होंने अपने फोन पर एप्पल से मिले चेतावनी वाले संदेशों के स्क्रीनशॉट को ट्वीट करते हुए लिखा है, ‘एक एप्पल आईडी threat-notifications@apple.com से प्राप्त हुआ, जिसे मैंने सत्यापित कर लिया है। प्रामाणिकता की पुष्टि की गई। मेरे जैसे करदाताओं के खर्चों पर अल्प-रोज़गार वाले अधिकारियों को काम कराने में खुशी हुई! करने के लिए और कुछ भी अहम नहीं है?’एप्पल की ओर से जिन नेताओं को चेतावनी भेजे गए हैं उसमें हाल ही में बीजेपी के निशाने पर आईं टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा तो हैं ही, इनके अलावा कांग्रेस शशि थरूर, कांग्रेस नेता पवन खेड़ा, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, आप सांसद राघव चड्ढा, शिवसेना यूबीटी सांसद प्रियंका चतुर्वेदी और सपा नेता अखिलेश यादव शामिल हैं। पत्रकार और द वायर के संस्थापक संपादक सिद्धार्थ वरदराजन, डेक्कन क्रोनिकल के रेजिडेंट एडिटर श्रीराम कर्री और ऑब्ज़र्वर रिसर्च फाउंडेशन के अध्यक्ष समीर सरन को भी एप्पल ने वह चेतावनी भेजी है। 

इनको भेजे गए अलर्ट वाले ईमेल में कहा गया है, “आप जो भी हैं या आप जो करते हैं, इस वजह से ये हमलावर संभवतः आपको व्यक्तिगत रूप से निशाना बना रहे हैं। यदि आपके उपकरण के साथ किसी सरकार-प्रायोजित हमलावर ने छेड़छाड़ कर दी है, तो वे दूर से ही आपके संवेदनशील डेटा, बातचीत या यहाँ तक कि कैमरा और माइक्रोफ़ोन तक पहुंचने में सक्षम हो सकते हैं।’चेतावनी वाले संदेश में कहा गया है कि संदेश पाने वालों से आग्रह है कि हालाँकि यह संभव है कि यह एक गलत अलार्म है, कृपया इस चेतावनी को गंभीरता से लें।महुआ मोइत्रा ने एक्स पर गृह मंत्रालय को टैग करते हुए लिखा है, ‘एप्पल से मुझे चेतावनी भरा संदेश और ईमेल मिला कि सरकार मेरे फोन और ईमेल को हैक करने की कोशिश कर रही है।’ उन्होंने एक के बाद कई ट्वीट किए। उन्होंने कहा है कि ‘इंडिया’ गठबंधन के कई लोगों के फोन हैक करने की कोशिश की गई है। महुआ ने एक ट्वीट में कहा है, ‘आधिकारिक तौर पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को पत्र लिख रही हूँ, वह विपक्षी सांसदों की सुरक्षा के लिए राजधर्म का पालन करें और हमारे फोन/ईमेल हैक को लेकर गृह मंत्रालय के अधिकारियों को जल्द से जल्द बुलाएं। विशेषाधिकार समिति को पहल करने की जरूरत है। अश्विनी वैष्णव, यह सच में उल्लंघन है जिसके बारे में आपको चिंता करने की ज़रूरत है।’प्रियंका चतुर्वेदी और पवन खेड़ा ने भी इसको लेकर गृह मंत्रालय और मोदी सरकार पर निशाना साधा है। 

एप्पल ऐसे हमलों को लेकर दो तरीकों से आगाह करता है-

  • यूज़र द्वारा appleid.apple.com वेबसाइट पर साइन इन करने के बाद पेज के शीर्ष पर एक थ्रेट नोटिफिकेशन दिखता है।
  • एप्पल उन ईमेल पतों और फ़ोन नंबरों पर एक ईमेल और iMessage अधिसूचना भेजता है जो यूज़र की एप्पल आईडी से जुड़े होते हैं।एप्पल की वेबसाइट के अनुसार, उसका यह भी कहना है कि उसकी थ्रेट नोटिफिकेशन आपसे कभी भी किसी लिंक पर क्लिक करने, फ़ाइलें खोलने, ऐप्स या प्रोफ़ाइल इंस्टॉल करने, या ईमेल या फ़ोन द्वारा अपना एप्पल आईडी पासवर्ड या वेरिफिकेशन कोड देने के लिए नहीं कहता है। इसने कहा है कि ‘इसलिए यदि आपको एप्पल की ओर से होने का दावा करने वाली कोई थ्रेट नोटिफिकेशन दिखाई देती है, जो आपसे किसी लिंक पर क्लिक करने या ऐप इंस्टॉल करने के लिए कहती है तो इसे अनदेखा करना सबसे अच्छा है। यह संभवतः किसी प्रकार का फ़िशिंग प्रयास है।’इस मामले में सरकार की ओर से अभी तक कोई प्रतिक्रिया तो नहीं आई है, लेकिन बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने विपक्षी नेताओं की आलोचना की है। उन्होंने ट्वीट किया है, “आदतन संदिग्धों द्वारा ‘सरकार प्रायोजित’ हमले पर हंगामा खड़ा करना और शहीद होने का नाटक करना अच्छी बात है… लेकिन पूरी संभावना है कि यह हो-हल्ला पहले की तरह फुस्स हो जाएगा! एप्पल की सफाई का इंतज़ार क्यों न किया जाए? या क्या आक्रोश जताने का मौका छोड़ना नहीं चाहते?’

पत्रकार और टेक्नेलॉजी पॉलिसी के जानकार निखिल पाहवा ने भी एप्पल की चेतावनी को गंभीरता से लेने का आग्रह किया है। उन्होंने ट्वीट किया है, ‘सॉफिस्टिकेटेड हमले, एकाधिक वेक्टर: ऐसे हमलों से बचना लगभग असंभव है, क्योंकि वे आपको किसी भी माध्यम से लिंक पर क्लिक करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं…।’उन्होंने ट्विटर थ्रेड में कहा, ‘मुझे यह भी बताया गया है कि समीर सरन जैसे गैर राजनीतिक लोग भी प्रभावित हुए हैं। एक अन्य पत्रकार ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि यह एप्पल के सॉफ्टवेयर की खराबी है। समीर साइबर पॉलिसी में गहराई से लगे हुए हैं, और मुझे आश्चर्य होगा अगर एक सॉफ्टवेयर खराबी केवल कुछ चुनिंदा भारतीयों को प्रभावित करती है, खासकर वे जो राजनीतिक रूप से जुड़े हुए हैं।’उन्होंने आगे कहा है, ‘यदि आप प्रभावित हैं, तो किसी भी इनकार को गंभीरता से न लें। सावधानी बरतें। डिवाइस, नंबर स्विच करें, दैनिक ऑटो रीबूट सेट करें और अपने डिवाइस के फोरेंसिक विश्लेषण के लिए साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ से परामर्श लें। मुझे लगता है कि कभी-कभी ज़्यादा शतर्क हो जाना अधिक सुरक्षित होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: