दैनिक रणघोष की खबरें आपकी सोच को राष्ट्रीय बनाती है..

‘हमास के रेप, अत्याचार के बारे में पता है?’


 इज़रायली पीएम ने महिला अधिकार समूहों की चुप्पी पर साधा निशाना


इज़रायली पीएम ने अपने आधिकारिक एक्स हैंडल पर पोस्ट किया, “मैं महिला अधिकार संगठनों, मानवाधिकार संगठनों से कहता हूं: आपने इज़रायली महिलाओं के बलात्कार, भयानक अत्याचार, यौन उत्पीड़न के बारे में सुना है- आप कहां हैं?”


 रणघोष अपडेट. अवीव (इज़रायल) 

 इज़रायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने हमास द्वारा महिलाओं के बलात्कार और अन्य अत्याचारों के बारे में बोलने में विफल रहने के लिए अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों, महिला समूहों और संयुक्त राष्ट्र की कड़ी आलोचना की है.इज़रायली पीएम ने अपने आधिकारिक एक्स हैंडल पर पोस्ट किया, “मैं महिला अधिकार संगठनों, मानवाधिकार संगठनों से कहता हूं: आपने इज़रायली महिलाओं के बलात्कार, भयानक अत्याचार, यौन उत्पीड़न के बारे में सुना है- आप कहां हैं?”उन्होंने कहा, “मैं सभी सभ्य नेताओं, सरकारों, देशों से इस अत्याचार के खिलाफ बोलने की उम्मीद करता हूं.” उन्होंने तेल अवीव में रक्षामंत्री योव गैलेंट और मंत्री बेनी गैंट्ज़ के साथ एक संवाददाता सम्मेलन में यह टिप्पणी की.द टाइम्स ऑफ इज़रायल की रिपोर्ट के अनुसार, नेतन्याहू ने कहा कि उन्होंने रिहा किए गए बंधकों और पहले भी बंधक बनाए गए लोगों के रिश्तेदारों से मुलाकात की, इस मुलाकात को वहां मौजूद लोगों ने दुश्मनी से भरा और भयावह बताया.उन्होंने कहा, “मैंने दुर्व्यवहार की दिल दहला देने वाली कहानियां सुनीं,” जैसा कि आपने सुना है, मैंने यौन शोषण और क्रूर बलात्कार के अभूतपूर्व मामलों के बारे में सुना.

लेकिन, उन्होंने महिला समूहों और मानवाधिकार समूहों को इस बारे में “चीख” नहीं सुनी. द टाइम्स ऑफ इज़रायल के अनुसार, नेतन्याहू ने पूछा, “क्या आप इसलिए चुप थे क्योंकि ये यहूदी महिलाएं थीं?”इज़रायल द्वारा गाज़ा में अतिरिक्त मानवीय सहायता और ईंधन की अनुमति देने और बंधकों को सुरक्षित रखने व उनकी रिहाई के संबंध में हमास पर देश के प्रभुत्व को कम करने को लेकर नेतन्याहू ने कहा कि बंधकों को लौटाने के लिए इज़रायल के पास युद्ध ही “मुख्य कार्ड” है, और ज़मीनी ऑपरेशन व मानवीय सहायता के पक्ष में हैं.उन्होंने कहा, युद्ध के प्रयास और उससे जुड़ी मानवीय सहायता के बीच “कोई विरोधाभास नहीं है” क्योंकि यह सब मिलकर बंधकों की मदद करने वाले हैं.इसके अलावा, द टाइम्स ऑफ इज़रायल के अनुसार, रक्षामंत्री योव गैलेंट ने कहा कि उन्होंने 7 अक्टूबर को आईडीएफ और क्षेत्रों में गतिविधियों के समन्वयक को “बिजली, पानी और ईंधन (जो इज़रायल गाज़ा को आपूर्ति करता है) को बंद करने और मजदूरों के प्रवेश को रोकने को कहा था.”उन्होंने कहा, वह गाज़ा के लिए इज़रायली सरकार की सभी जिम्मेदारी की दिशा में आगे बढ़ रहे थे.जब ज़मीनी ऑपरेशन शुरू हुआ, तो गैलेंट ने कहा कि वह जानते थे कि दबाव ही बंधकों को घर वापस लाने का रास्ता था.उन्होंने कहा, “जमीनी ऑपरेशन के लिए मानवीय सहायता की आवश्यकता होती है और सैन्य दबाव बढ़े इसके लिए न्यूनतम मानवीय सहायता दी जाती है.”गाज़ा में ईंधन देने पर, गैलेंट का कहना है कि, बदले में, इज़रायल को “मांग करने का अधिकार” है कि हमास रेड क्रॉस को बंधकों से मिलने देने के अपने दायित्व का सम्मान करे या, कम से कम, दवाएं प्रदान करे और अन्य आवश्यकताओं का ध्यान रखे. टाइम्स ऑफ इज़राइल ने यह ख़बर दी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *