रणघोष खास: सुपर-30 के संस्थापक आनंद कुमार का लेख

गरीब छात्रों की हकमारी न करें, धोखाधड़ी के कारण पिछड़ जाते हैं मेहनती मगर निर्धन छात्र


 रणघोष  खास. आनंद कुमार 

अभी जेईई-मेन परीक्षा में गड़बड़ी की खबरें आई हैं। कुछ लोग नकल करके, सॉफ्टवेयर को हैक करके ऐसे अयोग्य बच्चों को वहां तक पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं जिनमें क्षमता नहीं है, काबिलियत नहीं है। मेरा मानना है कि अगर आप पैसे के बल पर, प्रश्नपत्र लीक कराकर या किसी अन्य गलत तरीके से प्रतियोगिता परीक्षा पास करते भी हैं, तो अंततः इसका सबसे बड़ा घाटा आप ही को होगा। अगर आप योग्यता के बगैर किसी कॉलेज में दाखिला लेंगे तो आपको वहां काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। आपको शुरुआत में लग सकता है कि यह सफलता का शार्टकट है, आप यह भी सोच सकते हैं कि मैं आगे जाकर अच्छा कर लूंगा और आगे बढ़ जाऊंगा, लेकिन यह आपको दुःख देगा और आपके ऊपर हमेशा एक दबाव बना रहेगा। इसलिए आप चोरी से या नकल करके आगे बढ़ने की कभी न सोचें। बेशक आपके पास पैसा है तो आप चोरी से दलालों को 10-15 लाख रुपये देकर दाखिला तो ले लेंगे लेकिन जो गरीब हैं, जिनकी आर्थिक स्थिति दयनीय है, जो कष्ट झेल कर लालटेन और ढिबरी की रौशनी में पढ़ रहे हैं, जिनके घर में न तो बिजली का कनेक्शन है और न ही इंटरनेट का, जो अपनी पूरी जिन्दगी परीक्षा की तैयारी में लगा देते हैं, आप उनकी हकमारी कर रहे हैं। इसके अलावा, अगर आप पैसे देकर एडमिशन ले रहे हैं तो आप देश को भारी नुकसान भी पहुंचा रहे हैं।     

दूसरी महत्वपूर्ण बात यह है कि जितने नए-नए डिजिटल उपकरण आ रहे हैं और ऑनलाइन परीक्षा की जितनी बातें हो रही हैं, गड़बड़ी की आशंकाएं भी उतनी बढ़ रही हैं। आज गांवों में न जाने कितने छात्र हैं जिनके पास सुविधाओं और संसाधनों का अभाव है, जिन्होंने कंप्यूटर देखा भी नहीं है, और अगर देखा है तो उसका उपयोग नहीं किया है। जो छात्र शहरों में पले-बढ़े हैं, वो तो बचपन से ही मोबाइल, टैबलेट और लैपटॉप का प्रयोग कर रहे हैं। उनके लिए ऑनलाइन परीक्षा देना बहुत ही आसान है, बल्कि ऑफलाइन की तुलना में यह ज्यादा सरल है। लेकिन, उस गरीब बच्चे के बारे में सोचिए जो सरकारी स्कूल में पढ़ रहा है और जिसके पिता के पास स्मार्टफोन तो दूर, शायद एक बेसिक फोन भी नहीं हैं। इसलिए मेरा प्रधानमंत्री और केन्द्रीय शिक्षा मंत्री से आग्रह है अगले वर्ष से आइआइटी, एनआइटी और ऐसी सभी अन्य परीक्षाएं ऑनलाइन के साथ ऑफलाइन तरीके से भी हों ताकि दूरदराज के गांवों में रहने वाले छात्र दुनिया की रेस में शामिल हो पाएं।तीसरी बात यह है कि ऐसी घटनाएं उन छात्रों के माता-पिता के लिए धिक्कार समान हैं जो 15 लाख रुपये गलत तरीके से रिश्वत देकर, ऑनलाइन व्यवस्था में गड़बड़ी करा के अपने बच्चों का नामांकन सुनिश्चित करते हैं। इसके लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार वही हैं। पैसा आखिर कौन दे रहा है? बच्चों के पास तो 15 लाख रुपये नहीं होते। आप ऐसे माता-पिता की मनोदशा समझिए। यह बहुत बड़ा देशद्रोह है। ऐसा करके आप गरीब और समाज के वंचित वर्ग के छात्रों की हकमारी कर रहे हैं जो प्रतिकूल परिस्थितियों में दिन-रात इस उम्मीद में मेहनत कर रहे हैं कि वे जीवन में पढ़ाई की बदौलत आगे बढ़ेंगे। आप उसकी इस उम्मीद को मिटा रहे हैं। यह अक्षम्य अपराध है जो आप जानते-बूझते हुए कर रहे हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि इससे गरीब जनता का मेहनत पर से विश्वास उठ जाएगा। जिस समाज में, देश में, कौम में मेहनत पर से विश्वास उठ जाता है, उसका पतन शुरू हो जाता है।इन तमाम बातों के मद्देनजर मेरी छात्रों के माता-पिता से करबद्ध प्रार्थना है कि बच्चों को गलत काम करने का बढ़ावा न दें। अगर आप उन्हें बढ़ावा देंगे तो वे भी आगे जाकर आपको अनादर की दृष्टि से देखेंगे।मैंने ‘सुपर 30’ के माध्यम से सैकड़ों विद्यार्थियों को पढ़ाया है, जिन्होंने मेहनत के बल पर आइआइटी में दाखिला लिया। मेरे पढ़ाए हुए शिष्य आज भी मुझसे मिलने आते हैं और चरण स्पर्श करते हैं, क्योंकि मैंने उन्हें कभी गलत तरीके अपनाने की शिक्षा नहीं दी। मैंने हमेशा उनका सम्मान किया और उनको मुसीबतों से लड़ना सिखाया। मैंने उन्हें बताया कि विपरीत परिस्थितियों से कैसे जूझा जाता है। अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा भी आगे बढ़े, ताकतवर बने, जिसमें संघर्ष करने के क्षमता हो, जिसमें जुझारूपन हो, तो इस तरह की चीजों से उन्हें अलग रखिए। उन्हें चोरी, चीटिंग और नकल पर नहीं, सिर्फ और सिर्फ मेहनत पर विश्वास करना सिखाइए।

(लेखक पटना स्थित बहुचर्चित कोचिंग संस्था,   ‘सुपर 30’ के संस्थापक हैं, जिनकी जीवनी पर हृतिक रोशन अभिनीत बायोपिक बॉलीवुड में बन चुकी है)

47 thoughts on “रणघोष खास: सुपर-30 के संस्थापक आनंद कुमार का लेख

  1. Wow, incredible weblog structure! How lengthy have you been blogging for?
    you make running a blog look easy. The whole glance of your
    web site is wonderful, as smartly as the content!
    You can see similar here sklep

  2. Hi! Do you know if they make any plugins to help with Search Engine Optimization? I’m trying to get my website to rank for some targeted keywords but I’m not seeing very good success.
    If you know of any please share. Kudos! I saw similar blog here: Backlink Building

  3. Hello! Do you know if they make any plugins to assist with Search Engine
    Optimization? I’m trying to get my website to rank for some targeted keywords but I’m not seeing
    very good results. If you know of any please share. Many thanks!
    You can read similar art here: Escape rooms list

  4. I’ll right away grasp your rss feed as I can not find your e-mail subscription link or e-newsletter service. Do you’ve any? Please allow me know in order that I may subscribe. Thanks!

  5. I’m impressed, I must say. Genuinely rarely should i encounter a blog that’s both educative and entertaining, and let me tell you, you might have hit the nail around the head. Your concept is outstanding; the catch is an element that not enough consumers are speaking intelligently about. I am very happy i always came across this at my seek out something in regards to this.

  6. Hey! Do you know if they make any plugins to assist with
    Search Engine Optimization? I’m trying to get my website to rank for some targeted keywords but I’m not
    seeing very good success. If you know of any please share.

    Many thanks! I saw similar article here

  7. Hello! I simply want to make a huge thumbs up for the great info you might have here for this post. I will be coming back to your blog site to get more soon.

  8. I like Your Article about Anniversary of Mother Teresa’s Death | Fr. Frank Pavone’s Blog Perfect just what I was looking for! .

  9. What’s Going down i’m new to this, I stumbled upon this I’ve discovered It absolutely useful and it has helped me out loads. I hope to give a contribution & aid other customers like its helped me. Great job.

  10. I like what you guys are up too. Such intelligent work and reporting! Carry on the superb works guys I have incorporated you guys to my blogroll. I think it’ll improve the value of my website

  11. There are some interesting points with time in this article but I do not know if I see every one of them center to heart. There is some validity but I most certainly will take hold opinion until I check into it further. Very good post , thanks and now we want a lot more! Included with FeedBurner as well

  12. Substantially, the post is really the sweetest on that worthw hile topic. I fit in with your conclusions and will thirstily look forward to your next updates. Saying thanks will not just be enough, for the phenomenal clarity in your writing. I will certainly at once grab your rss feed to stay abreast of any kind of updates. Good work and also much success in your business efforts!

  13. This is a right weblog for anybody who would like to find out about this topic. You are aware of so much its nearly not easy to argue along with you (not that I personally would want…HaHa). You actually put the latest spin on a topic thats been discussed for years. Excellent stuff, just great!

  14. Throughout the awesome design of things you actually secure a B+ with regard to effort and hard work. Where exactly you actually lost me personally was first on the details. You know, they say, the devil is in the details… And it couldn’t be much more correct here. Having said that, permit me say to you what did deliver the results. Your text is highly convincing and this is probably the reason why I am making an effort in order to opine. I do not really make it a regular habit of doing that. Second, whilst I can easily notice a leaps in reasoning you make, I am definitely not convinced of exactly how you appear to unite your details which in turn help to make your final result. For now I shall yield to your issue however trust in the future you actually connect your facts better.

  15. An interesting dialogue is value comment. I believe that you must write more on this topic, it may not be a taboo subject however generally persons are not sufficient to speak on such topics. To the next. Cheers

  16. How is it that simply anybody can write a website and acquire as widespread as this? Its not like youve said something incredibly spectacular –more like youve painted a reasonably picture over a difficulty that you simply recognize nothing concerning I don’t want to sound mean, here. but do you really suppose that you can escape with adding some pretty pictures and not really say anything?

  17. I admire the dear knowledge you offer in your articles. I will bookmark your weblog and have my kids test up right here generally. I am reasonably positive they will learn numerous new stuff here than anyone else!

  18. Oh my goodness! Incredible article dude! Thanks, However I am going through difficulties with your RSS. I don’t understand why I can’t subscribe to it. Is there anybody else getting similar RSS problems? Anyone who knows the answer can you kindly respond? Thanks!!

  19. Good day! I could have sworn I’ve been to this web site before but after looking at many of the posts I realized it’s new to me. Anyhow, I’m certainly delighted I stumbled upon it and I’ll be bookmarking it and checking back often!

  20. May I simply just say what a relief to discover a person that actually understands what they are discussing on the net. You actually know how to bring an issue to light and make it important. A lot more people should check this out and understand this side of your story. I was surprised you’re not more popular because you definitely have the gift.

  21. An outstanding share! I have just forwarded this onto a coworker who was doing a little research on this. And he actually ordered me breakfast due to the fact that I discovered it for him… lol. So let me reword this…. Thanks for the meal!! But yeah, thanks for spending time to talk about this topic here on your blog.

  22. Nice post. I learn something new and challenging on sites I stumbleupon everyday. It will always be exciting to read through articles from other writers and practice something from their web sites.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *