रेवाड़ी जिले के इतिहास में पहली बार पर्यावरण को लेकर चला अनूठा अभियान

रेवाड़ी में चारों तरफ लगने लगे पेड़, संतान की तरह होगी देखभाल, लिया संकल्प


रणघोष अपडेट. रेवाड़ी

रेवाड़ी के इतिहास में पर्यावरण को लेकर सामाजिक सरोकार से सराबोर नजर आई अमनगनी हाउसिंग  ग्रुप सोसायटी ने शानदार मिशाल पेश कर दी है। उत्तर प्रदेश की अलग अलग नर्सरियों से हजारों की संख्या में नीम- पीपल समेत अनेक प्रजातियों के पौधे मंगाकर पर्यावरण मित्रों को वितरित करने शुरू कर दिए  हैं। कुछ संस्थाए एव लोग अपने निजी वाहनों से अमनगनी परिसर से इसे प्राप्त कर रहे हें तो कुछ स्थानों पर पर्यावरण को लेकर गठित टीम अपने वाहनों से वहां पहुंचा रही है। इस अभियान में सभी से यह संकल्प कराया जा रहा है की वे एक एक पौधे की देखभाल संतान की तरह करेंगे। इसलिए सावन में दिखावे के नाम पर पर्यावरण बचाने की मानसिकता का परित्याग कर उतने ही पौधे लगाए जिसकी पूरी तरह से देखरेख हो सके। दैनिक रणघोष इस अभियान को बेहतर बदलाव की आवाज बनकर अपनी जिम्मेदारी निभा रहा है।

बावल के कन्या कॉलेज में एक हजार पौधे लगाने का अभियान शुरू हो गया है। जिसका शुभारंभ  राज्य के कैबिनेट मंत्री डॉ. बनवारीलाल ने किया था। कॉलेज प्रबंधन ने एक एक पौधे की देखरेख की शपथ ली है। गांव शहबाजपुर  में भी पर्यावरण प्रेमियों सार्वजनिक स्थान जहां चारदीवारी बनी हुई है वहां पौधे लगाने शुरू कर दिए हैं। यहां टीम खुद उनके लिए पौधे लेकर पहुंची है। एम्स संघर्ष समिति के कार्यवाहक प्रधान कैलाश यादव अपने वाहन के साथ 125 पौधे मनेठी कुंड बाबा डाबलीवाला मंदिर ट्रस्ट के लिए ले गए हैं जिसे लगाने का अभियान शुरू हो गया है। गांव भाड़ावास में डॉ. सुरेंद्र वैटेनरी अस्पताल के तत्वावधान में पौधे लगाने का अभियान चल पड़ा है। गांव बुढपुर व बोडिया कमालपुर में निर्धारित की गई सार्वजनिक स्थानों पर ट्रैक्टर की मदद से गड्‌डे खोदे जा रहे हैं। उसके बाद 6 से 8 फीट ऊंचे पौधे लगाए जाएंगे। रेवाड़ी जिले से बाहर मधुबनी सेनबाली स्थित गुरुकुल आए राजकुमार ने भी पूरे संकल्प के साथ 200 पौधे लगाकर उसकी देखरेख करने का विश्वास दिलाया है। अनेक शिक्षण, धार्मिक, सामाजिक एवं जागरूक नागरिक पौधे लगाने एवं रेवाड़ी को पूरी तरह से हरा भरा करने के संकल्प के साथ संपर्क बनाए हुए हैं।

सभी को पौधे मिलेंगे पूरी जिम्मेदारी के साथ

पर्यावरण के इस महायज्ञ में सभी को आहुति डालने का अवसर मिलेगा। जितने भी लोग पौधे के लिए संपर्क कर रहे हैं  सभी को उपलबध कराए जाएंगे। अमनगनी की तरफ से शुरूआती चरण में  इस सावन में 10 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य लिया गया है जो बढ़ भी सकता है। रणघोष पर्यावरण की सुगंध घर घर तक पहुंचाने के लिए उन सभी पर्यावरण मित्रों के प्रयासों को कवरेज करेगा जो पौधे को संतान की तरह उसकी देखभाल करेंगे।

यह अभियान बताता है सोचिए बदलिए प्रकृति मुस्करा देगी

अमनगनी प्रबंधन समिति के संचालक त्रिलोक शर्मा का कहना है की यह सबकुछ परमात्मा के दिशा निर्देश पर हो रहा है। उन्होंने मुझे ऐसा करने की सद्बुद्धि प्रदान की। आस पास की  प्रकृति- पर्यावरण ही हमें बेहतर इंसान होने का गर्व महसूस करती है। उन्होंने कहा की इस बार पौधे उन्हीं के हाथों में पहुंच रहे हैं जिनकी आत्मा प्रकृति को महसूस करती है।

पेड़ के लिए हमसे संपर्क करें

इसलिए सभी से अनुरोध है की वे कम से कम अपने आस पास पेड़ लगाने की जगह उपलब्ध कराने के लिए आगे आए। इसके बाद पेड़ लगाने के लिए मोबाइल नंबर 9810031156 व 7206492978 पर संपर्क करें।

यह अभियान एक दूसरे की प्रेरणा बनकर बेहतर बदलाव की आवाज बनेगी

दैनिक रणघोष इस अभियान में शामिल सम्मानित लोगों को मीडिया प्लेटफार्म पर कवरेज के रूप में  सम्मान देकर समाज में एक दूसरे के प्रति प्रेरणा का माध्यम बनेगा। आप पर्यावरण को लेकर अपने स्तर पर जो भी प्रयास करेंगे हम उसे समाज में घर घर बेहतर बदलाव के तौर पर पहुंचाने का जरिया बनेंगे। आप हमें वाटसअप नंबर 720692978 व मेल आईडी ranghoshnews@gmail.com पर भी फोटोग्राफ्स एवं समाचार भेज सकते हैं।