नगर परिषद की कई एकड में बस गई पूरी बस्ती, आखिर कहा थे अधिकारी

रणघोष अपडेट. नारनौल, (रामचंद्र सैनी)


नारनौल के साथ लगते गांव रघुनाथपुरा की पहाडी और उसकी तलहटी पर स्थित नप की सैकडों एकड भूमि के एक भाग पर अवैध कब्जाकर पक्के मकान बनाकर पूरी बस्ती बस गई लेकिन नगर परिषद के किसी अधिकारी का इस तरफ ध्यान नहीं गया। अब जब मामला मीडिया के माध्यम से उजागर हुआ तो प्रशासन के कान खड़े हुए और नगर परिषद ने आज अपनी जमीन की सुध ली। मौके पर जाकर देखा तो नजारा हैरान करने वाला था। नगर परिषद के स्वामित्व वाली करीब सौ एकड से अधिक इस जमीन के एक भाग पर एक पूरी बस्ती बस गई है। जिसको देखते ही नप के अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को मौके पर माइक से एनाउंस करवाया कि जिन भी लोगों ने यहां अवैध कब्जा करके मकान बना लिये है वो तुरंत अपने आप कब्जा हटा लें, अन्यथा नगर परिषद इनको हटाएगी और इसके लिए जो भी जानमाल का नुकसान होगा, उसके लिए अवैध कब्जाधारी खुद जिम्मेदार होगा। नगर परिषद के सूत्रों के अनुसार खसरा नंबर 211, 204 तथा 214 आदि नंबरों की भूमि रघुनाथपुरा की पहाडी और इसके आसपास पडती है। इन खसरा  नंबरों का कुल रकबा सौ एकड से भी अधिक बनता है और मालिक नगर परिषद है। इस जमीन पर अवैध कब्जा करके मकान बना लेने की सूचना पर आज मौके पर जाकर मुनादी करवा दी गई है। करीब 40 से 50 मकान मौके पर बने हुए हैं।  अनेक मकानों पर पक्की छत है तो कइयों पर पक्की दीवार करके टीनशेड आदि डाले हुए हैं। अब सवाल यह खड़ा होता है कि नगर परिषद की कई एकड भूमि पर 40 से 50 मकान बनकर एक पूरी बस्ती बस जाती है। जिस जगह पर अवैध कब्ज हुआ है वो शहर और नगर परिषद से महज दो किलामीटर की दूरी पर ऐसे स्थान पर स्थित हैं, जहां आये दिन नगर परिषद के अधिकारियों व प्रशासनिक अधिकारियों का आना-जाना लगा रहता है। इसी के बिल्कुल पास नगर परिषद की नंदी गौशाला बनी हुई है। जहां पर नप अधिकारी और कर्मचारी आते जाते रहते हैं, फिर भी किसी का ध्यान इस पर क्यों नहीं गया, यह गंभीर सवाल है। दूसरा बडा सवाल इतनी बड़ी संख्या मेंं मकान एक दो-दन या महीनों में नहीं बन सकते है। कई सालों से यह कारनामा चल रहा था तो आखिर नगर परिषद आंख मूंदकर क्यों बैठे रही। मामला सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद अब शहर में चर्चाओं का बाजार गर्म हो चुका है। लोगों का कहना है कि इतनी बडी संख्या में नगर परिषद की सरकारी भूमि पर मकान बन जाना बिना मिलीभगत के कतई संभव नहीं है। इस मामले की उच्च स्तरीय करके इसका खुलासा करना चाहिए।इस बारे में नगर परिषद के इओ अभय सिंह यादव का कहना है कि कब्जा स्थल पर माइक से नप ने एनाउंस करवा दिया है। शीघ्र ही रघुनाथपुरा पहाडी पर स्थित नगर परिषद की जमीन से अवैध कब्जा और निर्माण हो हटाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: