असम-मेघालय विवादः एनएचआरसी ने दिया दखल, संगमा सख्त

असम-मेघालय सीमा पर गोलीबारी में छह लोगों के मारे जाने के कुछ दिनों बाद, एनएचआरसी ने इसका संज्ञान लिया है और केंद्र और असम सरकारों से ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए दो हफ्ते में जांच करने और सिस्टम विकसित करने को कहा है। इस बीच मेघालय के सीएम कोनराड संगमा ने सख्ती दिखाते हुए कहा है कि मेघालय अब असम सीमा पर अपनी और चौकियां स्थापित करेगा। ताकि असम की ओर से कोई हरकत नहीं होने पाए। मेघालय के मुख्यमंत्री संगमा ने शुक्रवार को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में गोलीबारी में हुई मौतों को लेकर मामला दर्ज कराया था और इसे ‘मानवाधिकारों का स्पष्ट उल्लंघन’ करार दिया था। हालांकि असम में बीजेपी सरकार है और मेघालय में बीजेपी के अनुकूल सरकार है, लेकिन दोनों राज्यों के बीच तनाव चरम सीमा पर है। मुख्यमंत्री संगमा और उपमुख्यमंत्री प्रेस्टोन टाइनसॉन्ग ने दिल्ली में एनएचआरसी के अध्यक्ष जस्टिस (रिटायर्ड) अरुण कुमार मिश्रा और इसके अन्य सदस्यों से मुलाकात कर ज्ञापन दिया था। एनएचआरसी ने मंगलवार को बयान में कहा, आयोग ने मेघालय के मुख्यमंत्री के इस ज्ञापन का संज्ञान लिया है कि असम पुलिस और असम वन रक्षकों की 22 नवंबर को गोलीबारी में असम वन अधिकारी सहित छह लोगों की मौत हो गई थी। आयोग ने देखा है कि ऐसा लगता है कि यह घटना दो राज्यों – असम और मेघालय के बीच सीमा विवाद के कारण हुई है – जो लंबे समय से लंबित एक बड़ा मुद्दा है। आयोग ने कहा कि पहली नजर में ऐसा लगता है कि, यदि इस विवाद को सुलझा लिया गया होता, तो इस प्रकार की घटना टल जाती। राज्यों के बीच विवाद चाहे जो भी हो, पुलिस को ऐसी स्थितियों में संयम बरतना होता है। इसलिए, आयोग पड़ोसी राज्यों के बीच सीमा विवाद के क्षेत्रों में सशस्त्र बलों या पुलिस द्वारा फायरिंग के बारे में ऑपरेशन में एसओपी की जांच कराना चाहेगा। इसलिए केंद्रीय गृह सचिव और असम के मुख्य सचिव को ज्ञापन भेजा जा रहा है। वे इस प्रकार की घटनाओं को रोकने के लिए सिस्टम की जांच करें और सुझाव दें। खासकर उन क्षेत्रों को लेकर सुझाव दिए जाएं, जहां दोनों राज्यों के बीच सीमा विवाद है। रिपोर्ट दो हफ्ते में मांगी गई है। एनएचआरसी के बयान में कहा गया है कि कथित तौर पर यह घटना असम पुलिस और असम वन रक्षकों द्वारा लकड़ी ले जा रहे एक ट्रक का पीछा करने के बाद हुई। इन बलों ने ट्रक को मुकरोह गांव में रोक लिया। मुकरोह के ग्रामीण अपने गांव में असम पुलिस की एंट्री से आक्रोशित हो गए. उन्होंने असम पुलिस और असम वन रक्षकों को घेर लिया, जिसके परिणामस्वरूप गोलीबारी हुई।

बॉर्डर चेक पोस्ट बनेंगे

मेघालय सरकार ने घोषणा की है कि वह असम की सीमा से लगे राज्य के सभी संवेदनशील इलाकों में और सीमा चौकियां स्थापित करेगी। यह फैसला मुख्यमंत्री कोनराड के. संगमा की अध्यक्षता में हुई सर्वदलीय बैठक के बाद लिया गया।पत्रकारों से बात करते हुए, संगमा ने कहा कि मेघालय डेमोक्रेटिक एलायंस (एमडीए) सरकार राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में निवासियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है। सरकार ने इस मामले में जस्टिस टी. वैफेई की अध्यक्षता में एक न्यायिक जांच भी गठित की है।इस बीच, मेघालय में चार दिन की शांति के बाद सोमवार देर रात पश्चिम शिलांग के मावबाह में पेट्रोल बम से हमला हुआ। सीसीटीवी कैमरों के फुटेज में दो युवकों को इलाके में प्रवेश करते हुए और शिलांग के बंगाली पारा में पारितोष दास के आवास पर बम फेंकते हुए दिखाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: