चौड़ी छाती वाले आज बेहद बौने नजर आ रहे हैं..

“इस महामारी ने जरूर हमें दुबक जाने पर मजबूर किया है, लेकिन साथ ही इसने हमारे…

इतनी मौतों के बाद भी क्या मुंबई के शेयर बाज़ार तय करेंगे देश बदल रहा है..

अनुपम खेर ने मोदी की वापसी को लेकर पिछले दिनों क्या कह दिया था, हाल में…

कोरोना को धंधा बनाकर लूटने वाले डॉक्टर्स याद रखना हिसाब तुम्हारा भी होगा..

रणघोष खास. एक मरीज की कलम से यह लेख हिंदुस्तान में इलाज के नाम पर संगठित…

स्वास्थ्य ‘आपातकाल’ के बीच न्यायपालिका का अवकाश कितना न्यायोचित?

चिंता का मुद्दा यहाँ यह है कि स्वास्थ्य और चिकित्सा के क्षेत्र में उपजी मौजूदा आपातकालीन…

तीसरी लहर से पहले हमारे भीतर शिव का तीसरा नेत्र खुले तो रास्ते बनें और लोक व तंत्र दोनों बचें

 रणघोष खास. कुमार प्रंशात जब हर बीतते दिन के साथ देश हारता जा रहा हो और…

कोरोना: मोदी सरकार का इक़बाल ख़त्म!

सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में बैठे जज भी इंसान ही हैं। उनके भी नाते, रिश्तेदार, दोस्त,…

मौत के तांडव को मुनाफे का धंधा बनाने वालों याद रखना जीतेंगे हम हीं..

रणघोष खास. प्रदीप नारायण कोरोना ने हर इंसान के चरित्र को पूरी तरह से सार्वजनिक कर…

रिश्वत लेकर मरीजों के लिए कर रहे हैं बेड रिजर्व, भाजपा सांसद ने लगाए गंभीर आरोप

देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामलों के बीच अस्पतालों में रिश्वत लेकर बेड देने…

सरकार की ग़लती का ख़ामियाज़ा भारत ही नहीं, पूरी दुनिया भुगतेगी

जिस सरकार को यह बात ही समझ में नहीं आई कि इस महामारी से बचाव के…

कितनी मौतों के बाद सरकार मानेगी अपनी ज़िम्मेदारी?

रणघोष खास. बॉबी रमाकान्त/ संदीप पांडे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया, जो भारत की दो में से…

जनादेश ममता के पक्ष में नहीं, प्रधानमंत्री के ख़िलाफ़ है

देखने की सबसे बड़ी बात यह होगी कि बीजेपी और संघ के कार्यकर्ता अपने वर्तमान राजनीतिक…

नेता जी निश्चिंत रहे, देश में श्मशान घाट- कब्रिस्तान को कोई शिकायत नहीं है..

रणघोष खास. एक भारतीय की कलम से जितनी जल्दी यह भ्रम निकाल देंगे सत्ता के हुक्मरान…

हकेवि में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन केन्द्रित वेबिनार आयोजित

–विशेषज्ञों ने शिक्षा नीति के व्यावहारिक पक्षों से कराया अवगत स्वतंत्र भारत की आवश्यकताओं व अपेक्षाओं…

डंके की चोट पर : ये आम मौत नहीं सरकारी हत्याएं हैं, जिसकी ज़िम्मेदार सरकार है.. इसे स्वीकार करना पड़ेगा

चुप मत होना. ये चिल्ला–चिल्लाकर सबको चुप करा देते हैं। अर्थियां हमने अपने कंधों पर उठाई…

कोरोना महामारी से बचाव के लिए महाआरती का आयोजन किया

शहर के धोलियां कुआं स्थित भगवान सिद्धेश्वर शिव मंदिर में मानव जाति के कल्याण और रक्षा…

डंके की चोट पर देश के हुक्मरान- अधिकारी- डॉक्टर्स ने मिलकर खड़ा कर दिया कोरोना के नाम पर लाशों का बाजार, लगाइए बोली

–    मौतें कारोनों से नहीं सिस्टम की संडाध से हो रही है। अगर अभी भी…

डंके की चोट पर : ऑक्सीजन की कमी के बीच ‘मीडिया’ का सत्ता संग ‘सहवास’!

अब जैसे किसी साधु, पादरी, मौलवी, ब्रह्मचारी अथवा राजनेता को किसी महिला या पुरुष के साथ…

डंके की चोट पर : हमारा सिस्टम हत्यारा साबित हो चुका है, इसलिए खुद को मजबूत करिए..

कितना झूठ पर झूठ बोलते हैं हमारे नेता। जो सत्ता में है वह बने रहने के…

डंके की चोट पर : झूठ की इंतहा नहीं, कोरोना सबकी कलई खोलता जा रहा है

रणघोष खास. कुमार प्रंशात की कलम से  हमारे शायर कृष्ण बिहारी नूर ने कहा है :…