शार्क टैंक शो की तर्ज पर हरियाणा सरकार युवाओं को बनाएगी बिजनेसमैन – डिप्टी सीएम

– एविएशन में बढ़ेंगे रोजगार के अवसर, आईटीआई में करवाए जाएंगे उड्डयन कोर्स 


रणघोष अपडेट. चंडीगढ़


हरियाणा में स्टार्टअप शुरू करने वाले युवाओं के लिए प्रदेश सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। अब मशहूर शो शार्क टैंक इंडिया की तर्ज पर हरियाणा सरकार युवाओं को बिजनेसमैन बनाएगी। इसके लिए प्रदेश सरकार ने नए विजन के तहत बजट-2023-24 में प्रावधान किया है। योजना के तहत युवाओं के नए-नए बिजनेस आइडिया को साकार करने के लिए सरकार उन्हें फंड मुहैया करवाएगी। इसकी जानकारी हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने दी।डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने कहा कि आज प्रदेश के होनहार युवाओं के पास बिजनेस शुरू करने के लिए बेहतर आइडियाज है और इसके चलते नए-नए स्टार्टअप भी आ रहे है। उन्होंने कहा कि नए स्टार्टअप के लिए युवाओं को फाइनेंस की आवश्यकता होती है और इसमें नए युवाओं के सहयोग के लिए फंड, लोन उपलब्ध करवाने के लिए बैंकिंग सेक्टर भी हिचकिचाते हैं। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इसे देखते हुए हरियाणा सरकार ने बजट के माध्यम 200 करोड़ रुपए का वेंचर कैपिटल फंड का प्रावधान किया है। उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि 200 करोड़ रूपए के वेंचर कैपिटल फंड में से कोई भी महिला, कोई एससी आवेदक या फिर कोई ऐसा युवा जिसके पास आय का साधन नहीं है लेकिन उसके पास स्टार्टअप का आइडिया है तो वो इस स्कीम का लाभ उठा सकेंगे। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि योजना के तहत प्रदेश सरकार पांच करोड़ रूपए तक उसके निवेश में कैपिटल के तौर पर सहयोग करेगी। उन्होंने कहा कि इससे युवा अपने आइडिया से बिजनेस विकसित कर सकेंगे।

डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने यह भी जानकारी दी कि प्राइवेट कंपनियों को कौशलयुक्त और रोजगार सक्षम युवा उपलब्ध करवाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के युवाओं के कौशल विकास पर सरकार ने फोकस किया है और इसके लिए सरकार ने पलवल में श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय की स्थापना की है। इसके साथ-साथ अब प्रदेश के आईटीआई संस्थानों में नए कोर्स शुरू शामिल करके उन्हें अपग्रेड किया जाएगा। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि खासकर इसमें एविएशन विषय को जोड़ा जाएगा क्योंकि उड्डयन क्षेत्र युवाओं के लिए सुनहरा भविष्य है। उन्होंने उदाहरण के तौर पर बताया कि टाटा कंपनी ने करीब 250 प्लेन ऑर्डर किए है। अगर इसमें एक प्लेन की बात करें तो इसमें आठ से दस पायलट, इतने ही केबिन क्रू स्टाफ और इसके अलावा बड़ी संख्या में ग्राउंड और टेक्निकल स्टाफ की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि आईटीआई संस्थानों में एविएशन से जुड़े कोर्स शुरू होने से समय पर एविएशन इंडस्ट्री को कौशल युक्त युवा मिल पाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *