हिंदू हाई स्कूल प्रबंधन समिति चुनाव में रणघोष की रिपोर्ट सही साबित हुईं

WhatsApp Image 2022-08-07 at 8.19.27 PMरामकिशन गुप्ता चौथी बार प्रधान बने, दीपक मंगला धड़े ने चुनाव को एकतरफा नहीं होने दिया


रणघोष खास. सुभाष चौधरी

मॉडल टाउन स्थित शहर की नामी शिक्षण संस्थान हिंदू हाई स्कूल प्रबंधन समिति चुनाव के वहीं नतीजे आए जिसकी रिपोर्ट दैनिक रणघोष ने एक दिन पहले कर दी थी। रामकिशन गुप्ता भालखीवाले 125 वोटों से जीतकर  लगातार चौथी बार प्रधान चुने गए। उनकी पूरी टीम विजयी रही। उनके खिलाफ खड़े हुए दीपक मंगला ने चुनाव में पूरी टक्कर दी। गढ़ी बोलनी रोड स्थित समिति द्वारा संचालित जीएलएच स्कूल में हुए  मतदान व नतीजों तक माहौल बेहद शांतिपूर्वक एवं भाईचारे वाला रहा।

दैनिक रणघोष ने एक दिन पहले ही रामकिशन गुप्ता की जीत को मौजूदा बन रहे समीकरण के आधार पर प्रकाशित कर दिया था। हालांकि किसी भी मीडिया के लिए इस तरह का जोखिम लेना अपनी विश्वसीनयता एवं गरिमा को पूरी तरह से दांव पर लगाना होता है। रणघोष ने लिख दिया था कि करीब 800 वोट डलेंगे। वहीं हुआ 793 ने मतदान किया। हमने लिखा था कि चुनाव में जातिगत समीकरण अपना असर डालेगा। दीपक मंगला को सबसे ज्यादा ताकत अग्रवाल वैश्य समाज से मिलेगी वहीं रामकिशन गुप्ता अन्य जाति वर्ग की ताकत से जीत जाएंगे।  नतीजों में उसका प्रभाव साफ देखने को मिला। । इस चुनाव में अग्रवाल वैश्य धड़ा जहां दीपक मंगला की ताकत बना वहीं अन्य जाति वर्ग के मतदाताओं ने रामकिशन गुप्ता की जीत को मजबूत कर दिया।

WhatsApp Image 2022-08-07 at 8.28.51 PM

 उपप्रधान-  सहसचिव को प्रधान से ज्यादा वोट मिले

दिलचस्प बात यह रही की रामकिशन गुप्ता जहां 125 वोटों से विजयी हुए वहीं उनकी टीम से उपप्रधान संदीप जैन एवं सह सचिव पवन गुप्ता 201 वोटों से जीते। सबसे कम जीत का अंतर मैनेजर पद पर उतरे राजकुमार कालरा का रहा। वे कड़े मुकाबले में 96 वोटों से जीत पाए। इसके अलावा रामकिशन गुप्ता टीम से कार्यकारिणी सदस्यों के पद पर खड़े उम्मीदवार अमित तनेजा, अनिल कुमार, अनिल कुमार, चंद्रशेखर, ईश्वर कुमार गर्ग, जयमोहन अग्रवाल, महेंद्र गोयल, महेश अग्रवाल, मोहनलाल गुप्ता, मुरारीलाल, निखिल अग्रवाल, संजय अग्रवाल, सुनील कुमार खंडेलवाल, सुरेंद्र खुराना व तरूण गर्ग भी जीत गए।

सचिव पद पर अक्षय कुमार गुप्ता निर्विरोध चुने गए

रामकिशन गुप्ता खेमें से सचिव पद पर अक्षय कुमार एडवोकेट निर्विरोध चुने गए। विरोधी गुट ने इस पद के खिलाफ अपना कोई उम्मीदवार मैदान में नहीं उतारा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: