रणघोष खास में पढ़िए

जिम जाने वाले चुस्त-दुरुस्त लोगों को क्यों हो रहा हार्ट अटैक?


रणघोष खास. देशभर से



स्टैंड-अप कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव को जिम में कसरत के दौरान दिल का दौरा पड़ने की घटना ने एक बार फिर से जिम में कसरत के तौर-तरीकों पर सवाल उठाए हैं। वैसे, यह कोई पहला या अकेला मामला नहीं है। जिम में कसरत करने वाले या कसरत के दौरान ही चुस्त-तंदुरुस्त लोगों को हार्ट अटैक आने के कई मामले आ चुके हैं।तो आख़िर ऐसी घटनाओं में बढ़ोतरी क्यों हो रही है? क्या जिम में कसरत करने का सही तरीका नहीं अपनाया जा रहा है या फिर खास तरह की समस्या वाले लोगों को ऐसी दिक्कतें आ रही हैं? इन सवालों पर विशेषज्ञ क्या जवाब देते हैं, यह जानने से पहले यह जान लें कि अब तक ऐसे मामले कौन से आए हैं।सबसे ताज़ा मामला तो स्टैंड-अप कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव का ही है। उनको जिम में कसरत के दौरान ही दिल का दौरा पड़ा। वह ट्रेडमिल पर कसरत कर रहे थे तभी उन्हें सीने में दर्द हुआ और वे गिर पड़े। उन्हें उनके ट्रेनर द्वारा एम्स दिल्ली लाया गया। राजू श्रीवास्तव 58 साल के हैं। कॉमेडियन फिलहाल अस्पताल में निगरानी में हैं। पहले बताया गया था कि उनकी हालत में सुधार है, लेकिन अब उनकी स्थिति गंभीर बताई जाती है। एक समय कॉमेडी की दुनिया में राज करने वाले राजू श्रीवास्तव देश के सबसे सफल स्टैंड-अप कॉमेडियन में से एक हैं। वह टेलीविजन पर बेहद लोकप्रिय हैं। राजू श्रीवास्तव कॉमेडी के साथ-साथ राजनीति में भी सक्रिय हैं। वह बीजेपी नेता और उत्तर प्रदेश फिल्म विकास परिषद के चेयरमैन हैं।ऐसी ही स्तब्ध करने वाली ख़बर पिछले साल अक्टूबर में तब आई थी जब कन्नड़ फिल्म अभिनेता पुनीत राजकुमार को हार्ट अटैक आ गया था। कुछ रिपोर्टों में कहा गया था कि उनको जिम में कसरत करते हुए हार्ट अटैक आया था। हालाँकि बाद में कुछ रिपोर्टों में कहा गया था कि जब उनको हार्ट अटैक आया तब वह घर पर थे। बहरहाल, उनको बचाया नहीं जा सका था। वह 46 साल के थे। पुनीत के पिता राजकुमार साउथ इंडियन सिनेमा के आइकॉन थे। वह कन्नड़ फिल्म इंडस्ट्री के पहले एक्टर थे, जिन्हें दादासाहेब फाल्के अवॉर्ड मिला था। पुनीत राजकुमार से पहले एक और टीवी के चर्चित चेहरे और बिग बॉस 13 सीजन के विजेता सिद्धार्थ शुक्ला की स्तब्ध कर देने वाली ख़बर आई थी। पिछले साल सितंबर महीने में उनका हार्ट अटैक से निधन हो गया था। वह सिर्फ़ 40 साल के थे। रिपोर्टों में कहा गया था कि उन्होंने सोने से पहले कुछ दवाइयां ली थीं और सुबह वह नहीं उठे। बताया गया था कि अस्पताल लाए जाने से पहले ही उनकी मौत हो चुकी थी।इसी तरह इस साल मार्च में ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर शेन वार्न को हार्ट अटैक से निधन की ख़बर ने दुनिया भर में क्रिकेट प्रेमियों को स्तब्ध कर दिया था। पूरी तरह स्वस्थ 52 वर्षीय पूर्व क्रिकेटर शेन वार्न को हार्ट अटैक आने या फिर उनके निधन की वजह क्या थी? इस सवाल को लेकर कई तरह की रिपोर्टें आई हैं। शेन वार्न के मैनेजर ने उनके डायट प्लान यानी खानपान के तौर-तरीक़ों को लेकर चौंकाने वाले खुलासे किए थे। उनका कहना था कि शेन वार्न का डायट प्लान अजीब था और वह दो हफ़्ते के लिए सिर्फ़ लिक्विड यानी तरल पदार्थ ले रहे थे।शेन वार्न वर्षों से वजन के मुद्दों से जूझ रहे थे। शेन वॉर्न ने हाल ही में सोशल मीडिया पर भी कुछ वजन कम करने की बात कही थी। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर अपनी एक पुरानी तसवीर साझा करते हुए अपने पहले जैसे शरीर को सुडौल करने का संकल्प लिया था। उन्होंने उस पोस्ट में लिखा था, ‘ऑपरेशन श्रेड शुरू हो गया है (10 दिन में) और जुलाई तक लक्ष्य कुछ साल पहले के इस रूप में वापस आना है! चलो शुरू करते हैं।’बहरहाल, यह सवाल उठता है कि आख़िर जिम में कसरत या फिर स्वास्थ्य देखभाल में ऐसा क्या बदलाव हो रहा है कि हार्ट अटैक के मामले बढ़ रहे हैं? वैसे कहा तो जाता है कि शरीर को स्वस्थ रखने के लिए कसरत ज़रूरी है और आज की भागदौड़ वाली ज़िंदगी में जिम उस कसरत के लिए सबसे उपयुक्त है। लेकिन यदि आप भी स्वस्थ रहने या बॉडी बनाने के चक्कर में घंटों जिम में बिताते हैं तो समझिए आप अपने लिए नया जोखिम उठा रहे हैं। जिम में कसरत करने के लिए कुछ कायदों का पालन करना ज़रूरी होता है।

कड़ी कसरत के क्या हैं ख़तरे?


हाल में ऐसी रिपोर्टें आती रही हैं कि जिम में कड़ी कसरत करने से कुछ लोगों को कई तरह की दिक्कतें आई हैं। कई बार हार्ट अटैक के मामले भी आते रहे हैं। इसको लेकर जानकार सचेत करते रहे हैं। इसको लेकर कई बार सचेत किया गया है कि कई बार अनफिट लोग जिम में ज़्यादा पसीना बहाने के चक्कर में कसरत की सीमाओं को लांघ जाते हैं। शारीरिक क्षमताओं की अनदेखी कर कसरत करना कई बार भारी पड़ जाता है। कहा जाता है कि कई बार गंभीर बीमारियों से पहले शरीर में इसके संकेत मिलने लगते हैं। ऐसे में शरीर में बदलाव को नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए। कई रिपोर्टों में कहा गया है कि जिन लोगों को अचानक हार्ट अटैक आता है, उनमें भी ज्यादातर लोग शरीर के संकेतों को नज़रअंदाज़ कर देते हैं। ऐसे मामलों में सलाह दी जाती है कि साँस में तकलीफ होने, सीने में दर्द या ज़्यादा थकान महसूस होने पर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।यूएस नेशनल लाइब्रेरी ऑफ़ मेडिसिन नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ हेल्थ में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, अत्यधिक कसरत से अचानक कार्डियक अरेस्ट या अचानक कार्डियक डेथ का ख़तरा बढ़ सकता है।कड़ी कसरत करने वाले लोगों में अचानक हृदय गति रुकने का ख़तरा बढ़ सकता है। बता दें कि ऐसी रिपोर्टें आई थीं कि अभिनेता सिद्धार्थ शुक्ला को भी डॉक्टर ने ऐसी कड़ी क़सरत करने से मना किया था, इसके बावजूद सिद्धार्थ हर रोज़ 3-4 घंटे कसरत करते थे।एक रिपोर्ट के अनुसार, वडोदरा स्थित वरिष्ठ कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. विकास आनंद पटेल का कहना है कि जिन लोगों को पहले से ही हृदय से संबंधित किसी प्रकार की समस्या होती है, ऐसे लोगों में वर्कआउट के दौरान अधिक तीव्रता वाले अभ्यास यानी कड़ी कसरत करने के कारण दिल पर दबाव बढ़ने का खतरा हो सकता है, जो गंभीर स्थितियों में हार्ट अटैक का कारण बन सकती है। वह कहते हैं कि ज्यादातर रिपोर्टों को देखें तो पता चलता है कि इसके लिए सेलेब्रिटीज की गड़बड़ लाइफस्टाइल को प्रमुख कारण माना जा सकता है। देर रात तक जगना, खान-पान का कोई तय समय न होना और सोने-जागने का समय सही न होना, भी ऐसी समस्याओं को बढ़ाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: