जिला पार्षद चुनाव : आरक्षित हुई वार्ड 8 ने साथ लगते वार्ड 14 में बिगाड़े चुनावी समीकरण, नांधा की एंट्री से बदला गणित

पंचायती राज चुनाव की तैयारी के मद्देनजर बीसीए के लिए आरक्षित हुई जिला पार्षद वार्ड-8 सीट का सारा असर अब साथ लगती वार्ड नंबर 14 में नजर आना शुरू हो गया है। अभी तक वार्ड 8 में दूसरी बार पार्षद बनने की मजबूत दावेदारी के साथ नजर आ रहे आजाद नांधा ने वार्ड के आरक्षित होने के बाद वार्ड 14 में अपनी दावेदारी पेश कर दी है। आजाद के पास विकास के  नाम पर  बताने के लिए काफी कुछ है। उसके कार्यकाल में वार्ड 8  के दो गांव ढाणी कोलाना एवं माजरा को स्वच्छ भारत मिशन के तहत राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली।  साथ ही अपने कार्यकाल को बिना किसी विवाद या आरोप प्रत्यारोप से पूरा किया। इसी को आधार बनाकर आजाद नांधा ने वार्ड 14 में लोगों से आशीर्वाद लेना शुरू कर दिया है। उसके काम का रिपोर्ट कार्ड सार्वजनिक है। जिला स्तर पर भी जिला प्रशासन इस वार्ड को बेहतर कार्यों के लिए समय समय पर सम्मानित करता रहा है। गांव मनेठी के बाद माजरा में एम्स को लेकर किया गया संघर्ष भी किसी से छिपा नहीं है। ऐसे में आजाद नांधा के लिए वार्ड 14 में पोजीशन बनाना इसलिए मुश्किल नहीं होगा क्योंकि दोनो वार्डों के गांव परस्पर एक दूसरे से सटे हुए हैं। अगर नांधा इस सीट को जीतने में सफल होते हैं तो जिला प्रमुख  में उनकी सबसे मजबूत जमीनी स्तर की दावेदारी बन जाएगी।  इस वार्ड में आने वाले गांवों में टांकड़ी, धारण, गोबिंदपुर बास, राजगढ़, आरामनगर, कनुका, बधराणा, बेरवाल, प्रागपुरा, पुसिंका, गुमिना, पाली, गोठड़ा, खोरी, मामडिया ठेठर, माडिया अहीर, गोबिंदपुरी, चिमनावास, राजपुरा, शहबाजपुर, माखरिया, बवाना, टींट, हरजीपुर, कुंडल, मामडिया आसनपुर, कढू भवानीपुरा शामिल है। इस वार्ड से नीतू चौधरी पार्षद रही है। वह भी दूबारा अपने पति लीलू चौधरी के साथ मैदान में उतर चुकी है। इसके अलावा कुछ नए चेहरे हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: