दीवाली को लेकर कोरोना खुश है या हम समझ में नहीं आ रहा..

Danke Ki Chot Logoआम आदमी के सपनों का टूट जाना तो आम बात है लेकिन आम आदमी को सपनों के टूटने की आदत पड़ गयी हो ऐसा भी नहीं है। काल से होड़ लेते हुए मनुष्य के भीतर जब तक जिजीविषा जीवित रहती है तब तक वह सपने देखता रहता है। आज कोरोना और लॉक डाउन से पीड़ित भारत में करोड़ों लोग ऐसे हैं जिनकी जिजीविषा दम तोड़ती नज़र आने लगी है। भारत जैसे देश में जहां लगभग आधी आबादी पहले से ही दुनिया में सबसे ज्यादा कुपोषण का शिकार है। तमाम प्रयासों के बावजूद काबू में नहीं आ रहे हालातों को  दिवालियापन का सबसे सटीक उदाहरण कहा जा सकता है।

757-7575033_virus-clipart-happy-corona-virus-emoji-png-transparent

स्वास्थ्य सेवाओं के मामले में हम यूनिसेफ की रिपोर्ट पर ही नज़र डालें तो भारत की स्थिति उपसहारा अफ्रीका और नेपाल और अफगानिस्तान जैसेसबसे कम विकसित देशोंसे भी नीचे है। उस पाकिस्तान से भी नीचे जिसे 24 घंटे हमारा मीडिया कोसता रहता है। दक्षिण एशिया (केवल भारत नहीं) में बाल कुपोषण के ऊँचे स्तर की प्रवृत्ति को, जिसकी बराबरी उपसहारा अफ्रीका के उन देशों से की जा सकती है जिनके आय या स्वास्थ्य संबंधी संकेतक कमजोर हैं, ‘दक्षिण एशियाई पहेलीक्यों कहा जाता है यह बात अमर्त्य सेन बेहतर ढंग सेदीया जलाओयाथाली बजाओकी अपील करने वाले प्रधानमंत्री मोदी को समझा सकते थे, अगर वे भी यहां टिकने की स्थिति में नहीं थे। कुल मिलाकर इस बार की दीवाली कोरोना के लिए है या हमारे लिए। यह सबसे बड़ा सवाल हमसे ईमानदारी से जवाब चाहता है। किसी के पास है तो वह जरूर बताए जिम्मेदारी के साथ। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: